रसायन के ये 25 अनोखे रोचक तथ्य आपको हैरत में डाल देंगे

Chemistry facts in Hindi

आपने अपने स्कूल-कॉलेज में रसायन की पढाई जरुर की होगी, कुछ लोगों के लिए यह विषय काफी सरल है जबकि कुछ लोग ऐसे भी होंगे जो केमिस्ट्री जैसे विषय से दूर भागते हैं क्योंकि उन्हें लम्बे-लम्बे केमिकल फोर्मुले याद रखने में बड़ी परेशानी होती है। रसायन विज्ञान की दुनिया बहुत ही अद्भुत है, हमारे आसपास हो रही घटनाओं, हमारे शरीर के अंदर हो रहे क्रियाओं का हर जवाब रसायन के पास होता है।

आज हम chemistry से जुड़े कुछ ऐसे facts आपके साथ साझा करना चाहते हैं जिनके बारे में आपने कभी स्कूल या कॉलेज में नही पढ़ा होगा। ये कुछ ऐसे मजेदार रोचक तथ्य हैं जो की असल जिंदगी में देखने को मिल सकते हैं।

1. आपके शरीर में मौजूद हाइड्रोजन के अणु 10 अरब साल पुराने हैं जो की ब्रम्हांड की उत्पत्ति के समय पैदा हुए थे।

2. हीरा और ग्रेफाइट दोनों ही सिर्फ कार्बन से बने होते हैं लेकिन फिर भी दोनों के बीच जमीन और आसमान का अंतर है। जहाँ ग्रेफाइट से बना पेंसिल बहुत ही नाजुक होता है वहीं हीरा दुनिया के सबसे कठोर धातुओं में से एक है।

3. ऑक्सीजन का कोई रंग नही होता लेकिन ठोस और तरल ऑक्सीजन का रंग नीला होता है।

4. कांच एक तरल पदार्थ है। हो सकता है आप इस तथ्य पर विश्वास न करें लेकिन यह सच है की कांच के अणु बहुत ही धीमी गति से बहते रहते हैं लेकिन इसके बहाव की गति बहुत ज्यादा धीमी होने की वजह से इसे पूरी तरह से तरल पदार्थ की श्रेणी में नही रखा गया है। इसे अनाकार ठोस (amorphus solid) यानि न ही तरल न ही ठोस की श्रेणी में रखा गया है।

5. लगभग सारे पदार्थ जमने पर सिकुड़ जाते हैं लेकिन पानी एक ऐसा पदार्थ है जिसका आकार जमने पर फ़ैल जाता है।

6. पानी से भरे गिलास में अगर एक चुटकी नमक डाल दिया जाय तो पानी का स्तर 2% तक कम हो सकता है।

7. यदि आप आधा लीटर अल्कोहल और आधा लीटर पानी को एक साथ मिलाएं तो दोनों का मिश्रण एक लीटर नही बल्कि उससे कम होगा।

8. आपको जानकर हैरानी होगी की पानी को एक ही समय पर उबला और जमाया जा सकता है। इस स्थिति को ट्रिपल  पॉइंट कहा जाता है जहाँ पानी अपने तीनो अवस्थाओं (ठोस, द्रव, गैस) में पाया जाता है।

9. इन्सान के शरीर में इतना कार्बन होना की उससे ग्रेफाइट की लगभग 9000 पेन्सिल बनायीं जा सकती है।

10. हमारे वातावरण में मौजूद ऑक्सीजन का 20% हिस्सा अमेज़न की जंगलों से पैदा होते हैं।

11. यदि अंतरिक्ष में पानी को उड़ेल दिया जाय तो वह उबलने लगेगा उसके बाद उसमे से निकलने वाला भाप जमकर बर्फ हो जायेगा।

12. हीलियम को आप ठंडा करके नही जमा सकते इसे जमाने के लिए आपको इस पर बहुत ज्यादा दबाव बनाना पड़ेगा।

13. हीलियम गैस भरा गुब्बारा हवा में उड़ता है क्योंकि यह हवा से भी ज्यादा हल्का होता है।और यही वजह है की इसका उपयोग वयुयान के टायरों को भरने में भी किया जाता है।

14. क्या आप जानते हैं की खारे पानी या समुद्र के पानी को धीरे-धीरे जमाया जाय तो उससे बनने वाला बर्फ नमकीन नही बल्कि शुद्ध पानी वाला होगा।

15. गेलियम एक ऐसा पदार्थ है जो आपकी हथेली की गर्मी से भी पिघल सकता है।

16. क्या आप जानते हैं? झींगा मछली के खून का कोई रंग नही होता लेकिन जब यह हवा के संपर्क में आता है तो इसका रंग नीला हो जाता है।

17. हर इंसान के शरीर में लगभग 250 ग्राम नामक पाया जाता है।

18. क्या आपको पता? मेंढक को कभी पानी पीने की जरुरत नही पड़ती क्योंकि वह अपने शरीर से पानी सोंख लेता है।

19. आपके शरीर में सबसे कठोर रसायन आपके दांतों की परत है।

20. स्वाद पहचानने वाली कलिकाएँ न सिर्फ आपके जीभ में बल्कि आपके गालों में भी पाये जाते हैं।

21. क्या आप जानते हैं की मंगल ग्रह लाल क्यों होता है? क्योंकि इसके सतह पर भारी मात्रा में आयरन ऑक्साइड यानि लोहे पर लगने वाली जंग पायी जाती है।

22. कॉपर ही एक ऐसा धातु है जिसपर बैक्टीरिया नही लगता।

23. 190 डिग्री के तापमान पर हवा तरल में बदल जाता है।

24. पेट में पाया जाने वाला अम्ल स्टील को भी पचा सकता है।

25. -190 डिग्री सेल्सियस में हवा तरल में बदल जाता है।



Read More

बैडमिंटन से जुड़े 10 मजेदार रोचक तथ्य

बैडमिंटन का इतिहास बहुत ही पुराना है प्राचीन समय से ही यह खेल लोगों का मनोरंजन करता आ रहा है। इस खेल को दो खिलाडी या दो टीम आपस में खेल सकते हैं। खिलाडियों के हाँथ में एक रैकेट होता है जिससे शटलकॉक को हिट करके इस खेल को खेला जाता है। आपने भी इस खेल का आनंद उठाया होगा लेकिन आज हम आपको बैडमिंटन के बारे में कुछ रोचक और मजेदार तथ्य बताने वाले हैं जिसे पढने के बाद आप इस खेल के बारे में और भी अधिक जानकारियां प्राप्त कर पाएंगे।
Badminton facts in Hindi

बैडमिंटन की रोचक जानकारियां 

1. इस खेल की शुरुआत कैसे और कहाँ से हुई इसके बारे में कोई पुख्ता प्रमाण नही है लेकिन माना जाता है की भारत में 1500 ईसा पूर्व से ही बैडमिंटन खेला जाने लगा था तब इसे "पूना" के नाम से जाना जाता था क्योंकि इसकी शुरुआत पूना शहर से हुई थी। इसके बाद सन 1870 में भारत में कार्यरत ब्रिटिश अधिकारीयों द्वारा इसे देश से बाहर ले जाया गया। Duke of Beaufort (जिन्हें बैडमिंटन के जनक के नाम से जाना जाता है) को यह खेल बहुत पसंद था और वे अपने साथियों के साथ अक्सर इस खेल को खेला करते थे, धीरे-धीरे यह खेल लोगों के बीच काफी लोकप्रिय होने लगा।

2. रैकेट से खेले जाने वाले खेलों में बैडमिंटन सबसे तेज़ गति से खेला जाने वाला खेल है जहाँ रैकेट से लगने के बाद शटल की रफ़्तार 300 किमी. प्रति घंटे से भी ज्यादा की हो सकती है।

3. बैडमिंटन दुनियाभर में दूसरा सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला खेल है। पसंदीदा खेलों की सूची में पहले स्थान पर फुटबाल है।

4. सन 1992 पहली बार बैडमिंटन को ओलंपिक में शामिल किया गया जिसका पहला मैच बार्सेलोना में हुआ जिसे टीवी पर लगभग 1 अरब से भी ज्यादा लोगों ने देखा इससे आप अंदाज़ा लगा सकते हैं यह खेल कितना लोकप्रिय है।

5. पुराने समय में चीन में पैर से बैडमिंटन खेला जाता था जिसे Ti Zian नाम दिया गया था जिसमे खिलाडी रैकेट की जगह अपने पैर से शटलकॉक को मारता था। यह खेल आज भी चीन में खेला जाता है।

6. बैडमिंटन के शटलकॉक को बत्तख के पंखों से बनाया जाता है। इसका वजन 4.74 से 5.50 ग्राम तक होता है।कहा जाता है की इसके लिए बत्तख के सिर्फ बाएं तरफ के 16 पंखों का ही उपयोग किया जाता है।

7. बैडमिंटन रैकेट का वजन 84 ग्राम से 100 ग्राम तक होता है।

8. अब तक का सबसे छोटा बैडमिंटन मैच सिर्फ 6 मिनट का है जो की Kyung-min (South Korea) और Julia Mann (England) के बीच खेला गया था।

9. Peter Rasmussen (Denmark) और Sun Jun (China) के पास सबसे लम्बे समय 124 मिनट तक मैच खेलने का रिकॉर्ड है।

10. जब से यह ओलंपिक खेलों में शामिल हुआ है तब से 103 पदकों में से 93 पदक एशियाई देशों द्वारा जीते गये हैं।

11. इस खेल में सबसे अधिक सफलता प्राप्त करने वाले देशों में चीन और इंडोनेशिया सबसे आगे हैं जो की बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन के 70% मैच जीत चुके हैं।

12. विश्व बैडमिंटन संघ (Badminton World Federation) की स्थापना 1934 में हुई थी तब इसमें केवल 9 देश शामिल थे लेकिन अब इसमें विश्व के 150 देश शामिल हो चुके हैं।

13. मलेशिया के तन बून हेओंग ने 206 मील प्रति घंटे (331 किमी प्रति घंटे) की रफ़्तार से शटल को हिट करके गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कर लिया है।

14. एक पेशेवर खिलाडी बैडमिंटन के मैदान शटल को हिट करने के लिए 2 फीट की ऊंचाई तक छलांग लगा सकता है। 

15. पुराने समय इस खेल को अलग-अलग नामो से जाना जाता था जैसे बैटलडोर, शटलकॉक आदि। बाद में इसका नाम बैडमिंटन रखा गया यह नाम Duke of Beaufort के निवास स्थान बैडमिंटन हाउस के नाम पर रखा गया।

Read More

स्वामी रामदेव की पतंजलि के बारे में रोचक जानकारियाँ - Patanjali Facts in Hindi

Patanjali facts in Hindi

स्वामी रामदेव की पतंजली को आज कौन नही जानता, दवाइयों से शुरुआत करने के बाद अब कंपनी ने FMCG सेक्टर में कदम रखकर सालों से इस क्षेत्र में अपना दबदबा बनाये रखने वाली कंपनियों को संघर्ष की स्थिति में ला खड़ा किया है। बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने न सिर्फ पतंजली को एक ब्रांड बनाया है बल्कि आज पूरे देश में लोगों को अपने खानपान, जीवनशैली और सेहत के प्रति जागरूक करने की कोशिश की है।

आज हम पतंजली आयुर्वेद लिमिटेड कंपनी के बारे में कुछ रोचक तथ्य आपके सामने रखने वाले हैं उम्मीद है आपको इसे पढ़कर पतंजलि के बारे कई सारी जानकारियाँ प्राप्त होंगी।

1. सन 1988 में बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण एक दुसरे से मिले और दोनों ने मिलकर दिव्य फार्मेसी  की स्थापना की जहाँ वे लोगों को योग सिखाते थे और मुफ्त में इलाज करते थे। पतंजलि की शुरुआत सन 2006 में आचार्य बालकृष्ण द्वारा हरिद्वार में की गयी जिसमे बाबा रामदेव ने उनका पूरा सहयोग दिया।

2. ज्यादातर लोगों का यह मानना है की पतंजलि स्वामी रामदेव की कंपनी है लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी की कंपनी में बाबा की हिस्सेदारी 0% है जबकि आचार्य बालकृष्ण के नाम पर 94% शेयर है वहीँ बाकी के 6% शेयर NRI दम्पति सरवन और सुनीता पोद्दार के नाम पर है जिन्होंने पतंजलि को शुरू करने में loan देकर आर्थिक मदद की थी।

3. कंपनी के मुताबिक़ पतंजली की कमाई का 100% हिस्सा समाज सेवा में लगा दिया जाता है यह पैसा किसी व्यक्तिविशेष के लिए नही है।




4. आज पतंजलि देश की सबसे तेज़ गति से प्रगति करने वाली FMCG कंपनी है जो की पिछले 5 सालों से हर साल 50% प्रतिशत की वृद्धि के साथ बढ़ रही है।

5. जहाँ दूसरी कंपनियां अपने उत्पादों के प्रचार-प्रसार के लिए किसी फिल्मी सितारे या सेलेब्रिटी को अपना ब्रांड अम्बेसेडर बनाते हैं वहीँ पतंजलि के ब्रांड अम्बेसेडर स्वयं बाबा रामदेव हैं। कंपनी का कहना है की जब उनके पास पहले से ही विश्वविख्यात और लाखों फोलोवर्स वाले बाबा हैं तो किसी अन्य महंगे सेलेब्रिटी की क्या जरुरत है।

6. पतंजलि के पास स्वयं का एक फ़ूड पार्क है जिसे सन 2009 में 100 एकड़ जमीन पर बनायी गयी है जिसे बनाने में लगभग 500 करोड़ रूपये लगे जिसमे आज लगभग 65,000 लोग काम करते हैं।

7. पतंजलि के पास आज लगभग 1000 से भी ज्यादा उत्पाद, 10,000 स्वदेशी केंद्र, 1,500 आयुर्वेदिक चिकित्सालय, 25,00 आरोग्य केंद्र हैं इसके अलावा देश के हर शहर-गाँव और गली मोहल्ले में हजारों स्टोर बनाये गये हैं।

8. आपने कई लोगों को कहते हुए सुना होगा की पतंजली के सामान महंगे होते हैं लेकिन बाबा रामदेव के मुताबिक पतंजलि के ज्यादातर उत्पाद किसी अन्य ब्रांड की तुलना में 15 से 20% तक सस्ते हैं।

9. कंपनी की कमाई के बारे में बात करें तो सन 2015-16 इसकी आय 5000 करोड़ थी जो की 2016-17 में बढ़ कर 11,526 करोड़ और 2017-18 में 12,000 करोड़ हो गयी अब कंपनी का अगला लक्ष्य 20,000 करोड़ के आंकड़े को पार करने का है।

10. जिस प्रकार नेस्ले की मैगी को पतंजलि की आटा नूडल ने कड़ी टक्कर दी थी ठीक उसी तरह अब Adidas, Nike जैसी कंपनियों को चुनौती देने के लिए पतंजलि की तरफ से तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं। टाइम्स ऑफ़ इंडिया को दिए गये इंटरव्यू में बाबा ने साफ़ तौर पर कहा है की अब वे योगा वस्त्र तैयार करने वाले हैं जो की नाइके जैसी sportsware बनाने वाली कंपनियों को कड़ी टक्कर देगी।





Read More

ताजमहल से जुड़े सामान्य ज्ञान प्रश्न और उत्तर

ताजमहल क्या है? इस देश में यह सवाल शायद ही कोई पूछता होगा क्योंकि यहाँ का हर एक इन्सान ताजमहल के बारे में जानता है, हर कोई जानता है की आगरा शहर में स्थित इस खूबसूरत मकबरे को मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने बनवाया था जो आज विश्व के सात अजूबों में से एक है।

Tajmahal GK questions in Hindi


हर किसी को पता है की शाहजहाँ ने इसे अपनी पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था लेकिन कई लोगों को यह पता नही होगा की मुमताज महल शाहजहाँ की तीसरी पत्नी थीं। ऐसे ही हम ताजमहल से जुड़े कुछ सवाल और उनके जवाब लेकर आये हैं और जिन्हें पढ़ कर आप ताजमहल के बारे में और अधिक जानकारी हासिल कर पायेंगे।

ताजमहल कहाँ है?
यह भारत के उत्तरप्रदेश राज्य के आगरा शहर में यमुना नदी के किनारे स्थित है।

ताजमहल को कितने मजदूरो ने बनाया?
ताजमहल को बनाने में बीस हजार मजदूरों की जरुरत पड़ी थी।

ताजमहल को बनाने में कितने दिन लगे थे?
ताजमहल को बनाने की शुरुआत 1632 में हुई थी और लगभग 22 साल बाद यह 1948 में पूरी तरह बनकर तैयार हुआ था।

ताजमहल को बनाने में कितने पैसे खर्च हुए थे?
उस जमाने के हिसाब से ताजमहल को बनाने में शाहजहाँ ने लगभग 32 मिलियन रूपये खर्च किये थे।

ताजमहल की नींव किससे बनी है?
आपको यह जानकर हैरानी होगी की ताजमहल का नींव भारीभरकम लकड़ीयों से बनाया गया है और इन लकड़ियों को यमुना के पानी से मजबूती मिलती है। कहा जाता है की नीव बनाने में आबनूस लकड़ी का उपयोग किया गया है जो की एक प्रकार की काली रंग की मजबूत लकड़ी होती जिसका वजन बहुत ज्यादा होता है और इसका उपयोग सजावटी सामान बनाने में किया जाता है।

ताजमहल का आकार कितना है?
ताजमहल की ऊंचाई 73 मीटर यानि 240 फीट है, इसकी लम्बाई 970 फीट और चौड़ाई 365 फीट है। यह चारों तरफ से बगीचे और अन्य कई प्रकार के भवनों से घिरा हुआ है, ये सभी 17 हेक्टेयर भूमि पर बनाये गये हैं।

ताजमहल में कितने कमरे हैं?
120 कमरे।

ताज महल को बनाने मे कौन-कौन से पत्थर का उपयोग किया गया है?
ताजमहल को खूबसूरत बनाने के लिए कई प्रकार के बेशकीमती पत्थरों का उपयोग किया गया है जिन्हें सिर्फ भारत ही नही बल्कि एशिया के अलग-अलग स्थानों से एकत्रित किया गया है। इनमे से कुछ पत्थरों के नाम इस प्रकार हैं:
  • अकीक
  • येमेनी
  • फिरोजा
  • लज्वाद
  • मूंगा
  • सुलेमानी
  • लहसुनिया
  • यशब
  • पितुनिया
कहा जाता है की इन पत्थरों को अलग-अलग स्थानों से लाने के लिए लगभग 1000 हाथियों का उपयोग किया गया था।

ताज महल से कितनी कमाई होती है?
कमाई के मामले में ताजमहल किसी अन्य दार्शनिक स्थलों के मुकाबले काफी आगे है। इसकी सालाना कमाई लगभग 25 करोड़ रुपये है।

ताजमहल का ठेकेदार कौन था?
कहा जाता है की ताज को बनाने के समय उस्ताद ईसा नामक व्यक्ति ठेकेदार थे जो की एक वास्तुकार भी थे।

ताजमहल किसने बनवाया था?
ताजमहल को मुगल शासक शाहजहां ने अपनी तीसरी पत्नी मुमताज महल की याद में उसकी मृत्यु के उपरांत बनवाया था।

ताजमहल को किसने बेच दिया था?
आपको जानकर हैरानी होगी की ताजमहल जिसे भारत की एक प्राचीन विरासत मानी जाती है को किसी ने बेंच दिया था। एक बहुचर्चित व्यक्ति जिसका नाम मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव था जिसे लोग नटवर लाल के नाम से जानते थे ने यह कारनामा किया था। 

ताजमहल पर क़ुरान की आयात किसने लिखी थी?
ताजमहल की दीवारों पर सुन्दर तरीके से calligraphy के जरिये लिखे गए कुरान के आयात देश-विदेश से आने वाले सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करतीं हैं कई लोगों के मन में यह सवाल आता है की आखिर इसे किसने लिखा होगा? सन 1609 में इसे अब्दुल हक नाम के व्यक्ति द्वारा संगमरमर के पत्थरों पर लिखा गया था,  कई जगहों पर उनके हस्ताक्षर भी देखे गये हैं। अब्दुल हक को शाहजहाँ ने अमानत अली की उपाधि भी दी थी। 

ताज महल का वास्तुकार (architect) कौन था?
उस्ताद अहमद लाहौरी ताजमहल के प्रधान वास्तुकार (chief architect) थे वहीँ उस्ताद ईशा सह वास्तुकार के तौर काम कर रहे थे।

दूसरा ताज महल की संज्ञा किसे दी गयी है?
महाराष्ट्र के औरंगाबाद में बीबी का मकबरा नामक एक मकबरा है जिसे मुग़ल सम्राट औरंगजेब के बेटे आज़म साह ने अपनी माँ राबिया-उद-दौरानी की याद में सन 1660-61 में बनवाया था इसे ताजमहल की तरह ही बनाया गया है इसलिए इसे दूसरा ताजमहल भी कहा जाता है।

ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों (seven wonders of the world) में कब शामिल किया गया?
सन 2007 में।

क्या सैलानियों के लिए ताजमहल पूरे हफ्ते खुला रहता है?
नही हफ्ते में एक दिन शुक्रवार को ताजमहल बंद रहता है बाकी के छः दिन आप सुबह 6.00 बजे से शाम तक यहाँ घूम सकते हैं।

ताजमहल घूमने के लिए कौनसा समय अच्छा होता है?
यदि आप ताजमहल देखने जा रहें हैं तो इसके लिए मौसम के अनुसार सबसे बढिया समय अक्टूबर से मार्च तक को माना जाता है।

जब मुमताज की मृत्यु हुई तब वह कितने वर्ष की थी?
38 साल।

मुमताज की मृत्यु कैसे हुई?
मुमताज महल की मौत बुरहानपुर में 17 जून 1631 में शाहजहाँ के 14वीं संतान को जन्म देने के दौरान हुई थी।

ताजमहल को Unesco World Heritage का दर्जा कब मिला?
सन 1983 में।

क्या ताजमहल में कैमरा ले कर जा सकते हैं?
हाँ सुरक्षा जांच के बाद आप कैमरा ले कर जा सकते हैं लेकिन कैमरे के अन्य सामान जैसे tripod आदि लेकर नही जा सकते।


उम्मीद है ताजमहल से जुड़े सारे सवालों के जवाब आपको मिल गये होंगे यदि कोई सवाल आपके मन में हो तो आप नीचे कमेंट कर के हमें जरुर बताएं।
Read More

ओलंपिक से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान प्रश्न - Olympic GK in Hindi

Olympic Questions Answers in Hindi

Olympics GK Questions and Answers in Hindi

आज हम आपको ओलंपिक से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान प्रश्न और उनके उत्तर बताने वाले हैं जो की प्रतियोगी परीक्षाओं में अधिकतर पूछे जाते हैं। उम्मीद है यह Olympic general knowledge आपके काम आएगी।

प्रश्न 1: ओलंपिक खेल का शुभारंभ कब और किस देश मे हुआ था?
उत्तर: सबसे पहले आधुनिक ओलंपिक की शुरुआत सन 1896 में यूनान की राजधानी एथेंस में हुई थी।

प्रश्न 2: ओलंपिक के प्रतीक चिन्ह क्या दर्शाते हैं?
उत्तर: ओलंपिक के पांच रिंग 5 खेल की सार्वभौमिकता को दर्शाती हैं ये अफ्रीका, अमेरिका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, और यूरोप महाद्वीप का प्रतिनिधित्व करती हैं।

प्रश्न 3: ओलंपिक शब्द का क्या अर्थ है?
उत्तर: "ओलंपिक" यूनान के एक पर्वत का नाम है।

प्रश्न 4: ओलम्पिक खेल कितने वर्षों के अंतराल में आयोजित किए जाते हैं?
उत्तर: हर 4 वर्ष के अंतराल में ओलंपिक का आयोजन होता है।

प्रश्न 5: कौन से ओलम्पिक प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक पूरी तरह से सोने से बना हुआ था?
उत्तर: सन 1912.

प्रश्न 6: ओलम्पिक का स्वर्ण पदक किस धातु से बना होता है?
उत्तर: यह 92.5% चांदी और 6 ग्राम सोने से मिलकर बना होता है।

प्रश्न 7: भारत द्वारा अब तक ओलंपिक में हॉकी के खेल में कितने स्वर्ण पदक जीता गया है?
उत्तर: भारत की तरफ से ओलंपिक हॉकी में अब तक 8 स्वर्ण पदक जीता जा चुका है। भारत ने पहला गोल्ड मैडल सन 1928 में जीता था।

प्रश्न 8: पहली बार ओलम्पिक ध्वज किस वर्ष और कौन से ओलम्पिक में फहराया गया?
उत्तर: सन 1920 में एंटवर्प ओलम्पिक में।

प्रश्न 9: ओलम्पिक पदक विजेता प्रथम भारतीय महिला कौन हैं?
उत्तर: कर्णम मल्लेश्वरी

प्रश्न 10:भारत ने सबसे ज़्यादा मेडल ओलिंपिक मे किस खेल मे जीते है?
उत्तर: भारत की ओर से Olympic में सबसे ज्यादा मैडल हॉकी में जीता गया है।

प्रश्न 11: भारत ने ओलंपिक में पहली बार भाग कब लिया था?
उत्तर: भारत ने पहला ओलंपिक सन 1900 में  खेला था जिसमे Norman Pritchard ने दो सिल्वर जीता था।

प्रश्न 12: द्वितीय विश्व युद्ध की वजह से कौन-कौन से सन में ओलिंपिक का आयोजन नही हुआ?
उत्तर: सन 1916, 1940, और 1944 में द्वितीय विश्व युद्ध की वजह से ओलंपिक गेम का आयोजन नही किया गया।

प्रश्न 13: सन 2012 का ओलिंपिक किस देश में आयोजित किया गया?
उत्तर: लन्दन।

प्रश्न 14: पहली बार ओलंपिक शपथ कहाँ और कब लिया गया?
उत्तर: ओलंपिक खेलों में शपथ लेने की शुरूआत 1920 में एंटबर्प (बेल्जियम) से हुई।

प्रश्न 15: सन 2008 के ओलिंपिक मे भारत ने कितने पदक जीते?
उत्तर: 2008 में भारत ने 1 gold और 2 bronze मिलाकर कुल 3 medals जीते।

प्रश्न 16: दिल्ली ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव (secretary general) का क्या नाम है?
उत्तर: राजीव मेहता।

प्रश्न 17: भारत की और से रियो ओलिंपिक मे पहला पदक किसने जीता?
उत्तर: भारत की ओर से सन 2016 में साक्षी मलिक ने रियो ओलंपिक में पहला पदक जीता।

प्रश्न 18: ओलम्पिक मशाल जलाने की प्रथा की शुरुआत कब की गई?
उत्तर: 1928 ई. में एम्सटर्डम ओलम्पिक में पहली बार मशाल जलाया गया।

प्रश्न 19: ओलंपिक मशाल किस पदार्थ से जलाई जाती है?
उत्तर: सूर्य की किरण से।

प्रश्न 20: किस देश ने सबसे अधिक ओलंपिक पदक जीते हैं?
उत्तर: ओलंपिक में अब तक सबसे अधिक 2520 पदक संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा जीता गया है

प्रश्न 21: पहला ओलिंपिक खेल किस वर्ष आयोजित हुआ?
उत्तर: सन 1896 में।

प्रश्न 22: टोकियो में ओलम्पिक खेल का आयोजन किस वर्ष किया गया?
उत्तर: 1964 में।

प्रश्न 23: 1968 मे ओलिंपिक खेल का आयोजन कहाँ हुआ था?
उत्तर: मेक्सिको सिटी में।

प्रश्न 24: कौन से वर्ष में पहली बार महिला खिलाडियों ने ओलंपिक में भाग लिया?
उत्तर: सन 1900  पेरिस में।

प्रश्न 25: सबसे पहले किस देश की महिलाओं ने ओलंपिक में भाग लिया?
उत्तर: फ़्रांस (पेरिस)

प्रश्न 26:  Modern Olympics के जनक किसे कहा जाता है?
उत्तर: Pierre de Coubertin

प्रश्न 27: अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति का मुख्यालय कहाँ है?
उत्तर: इसका मुख्यालय स्विट्जरलैण्ड के लॉज़ेन में स्थित है।

प्रश्न 28: रियो ओलंपिक 2016 का आदर्श वाक्य क्या था?
उत्तर: एक नयी दुनिया (A new world)

प्रश्न 29: किस महाद्वीप में कभी ओलपिक खेलों का आयोजन नहीं हुआ है?
उत्तर: अफ्रीका (इसका कारण द्वितीय विश्व युद्ध था)

प्रश्न 30: ग्रीस के लोग ओलंपिक को किसे समर्पित करते हैं?
उत्तर: अपने देवता ज़ीउस को



Read More

पृथ्वी के बारे में 30 अनोखी रोचक जानकारियां - Amazing Facts about Earth in Hindi

पूरे ब्रम्हांड में पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जहाँ की जलवायु कुछ इस तरह से है की हम जैसे जीव जंतु सालों साल से यहाँ जीते आ रहें हैं लेकिन हमेशा से ऐसा नही था, आज का अनुकूल वातावरण अरबों सालों से हो रहे लगातार बदलाव का असर है। हमारी धरती अपने-आप में कई सारे रहस्यों को समेटे हुए है ऐसे में कुछ तथ्य ऐसे भी हैं जिनपर विश्वास कर पाना बहुत ही मुश्किल है। आज हम आपको पृथ्वी से जुड़े कुछ ही ऐसे रोचक तथ्यों की जानकारी देना चाहते हैं जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता होता।

Facts about earth in hindi

पृथ्वी से जुड़ी 30 रोचक जानकारियाँ - Facts about Earth in Hindi

1. वैज्ञानिकों के अनुसार हमारी पृथ्वी 450 करोड़ साल पुरानी है।

2. पृथ्वी के कोर यानि बीच में इतना सारा सोना है की उससे पूरी धरती के सतह को 1.5 फीट मोटी परत से ढंका जा सकता है।

3. हम इंसानों के जन्म से पहले इस धरती पर 15 करोड़ साल तक डायनासोर का राज था लेकिन एक भयानक उल्कापिंड के पृथ्वी पर गिरने से चारों तरफ तबाही मच गयी जगह-जगह आग लग गयी और अम्ल की वर्षा
होने लगी जिसकी वजह से सारे डायनासोर मारे गये।

4. क्या आपको पता है जब धरती पर पेड़ नही पाए जाते थे तब यहाँ पेंड़ जितने बड़े मशरूम हुआ करते थे।

5. सबको पता है की सूर्य का तापमान बहुत ज्यादा है लेकिन क्या आपको पता है की पृथ्वी के अंदर का तापमान भी सूरज की गर्मी के बराबर होता है।

6. भले ही हमें लगता है की हम स्थिर हैं लेकिन हमारा पृथ्वी लगातार इतनी तेज गति से सूरज के चक्कर लगा की यह सिर्फ एक घंटे में 107,000 किलोमीटर का सफ़र तय कर लेता है।

7. हम सबको पता है की पृथ्वी का सबसे ऊँचा पहाड़ माउंट एवेरेस्ट है और इसकी ऊंचाई हर साल 4 मिलीमीटर बढ़ जाती है लेकिन एक दिन ऐसा आयेगा की नंगा पर्वत पृथ्वी की सबसे ऊँची चोंटी होगी क्योंकी इसकी ऊंचाई 7 मिलीमीटर प्रति वर्ष बढ़ रही है।

8. पृथ्वी पर उपस्थित अनुमानित 80% जीव छह पैर वाले होते हैं।

9. पृथ्वी एक इकलौता ग्रह जहाँ पानी ठोस, तरल और भाप तीनों रूपों में पाया जाता है।

Amazing Facts about Earth in Hindi (10-20)

10. पृथ्वी को अपनी धुरी पर एक चक्कर लगाने में 24 घंटे नही बल्कि 23 घंटे, 56 मिनट और 4 सेकंड्स लगते हैं।

11. आपको यह जानकार हैरानी होगी की धरती पर एक साल में 365 दिन नही बल्कि 365.2564 दिन होते हैं और इसलिए हर 4 साल में फरवरी महीने में 28 की जगह 29 दिन होते हैं इसे लीप वर्ष (leap year) या अधिवर्ष भी कहा जाता है।

12. आपने बरसात के दिनों में बिजली गिरते हुए जरुर देखा होगा लेकिन क्या आपको पता है धरती पर हर दिन लगभग 432,000 बार बिजली गिरती है।

13. धरती पर कहीं न कहीं हर दिन 10 से 20 ज्वालामुखी फटते हैं।

14. पृथ्वी पर लगभग 87 लाख जीव-जंतु पाए जाते हैं जिनमे से 22 लाख प्रजातियाँ समुद्र में पाए जाते हैं। धरती पर जीवों की संख्या और भी हो सकती है क्योंकि ऐसा माना जाता है की 80% जीवों के बारे में अब तक हमें कोई जानकारी नही है।

15. 70 करोड़ साल पहले पूरी धरती बर्फ से ढकी गुई थी

16. धरती का लगभग 70% हिस्सा पानी से ढका हुआ है जिसमे से 96% पानी समुद्र के रूप में मौजूद है।

17. अगर चन्द्रमा नही होता तो हमारी धरती पर सिर्फ 6 घंटे का दिन होता।

18. क्या आप जानते हैं पृथ्वी के घूमने की रफ़्तार धीरे-धीरे कम होती जा रही है। हर 100 साल में इसकी रफ़्तार लगभग 2 मिलीसेकंड्स कम हो जाती है।

19. आपको जानकर हैरानी होगी की उत्तरीय ध्रुव में समुद्र के निचे कोई भी ठोस जमीन नही है वहां सिर्फ बर्फ की चट्टानें हैं जो की गर्मियों में पिघलतीं हैं और सर्दियों में जम जातीं हैं।

Amazing Facts about Earth in Hindi (20-30)

20. धरती पर उपलब्ध पीने योग्य पानी का 68% हिस्सा स्थाई रूप से बर्फ में बदल गया है जो की ग्लेशियर के रूप में मौजूद है।

21. वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि पृथ्वी की जलवायु हमेशा स्थिर नही रहेगी यह अगले कुछ अरब वर्षों में खत्म हो जायेगी।

22. धरती पर रिकॉर्ड किया गया अब तक का सबसे गर्म तापमान 57.8 °C है जो की सन 1922 में लीबिया के अजीजिया में नापा गया था।

23. अगर अंटार्कटिका में सभी बर्फ पिघल जाए तो पृथ्वी पर समुद्र का स्तर लगभग 60 मीटर (200 फीट) बढ़ जाएगा।

24. पृथ्वी पर जितने रेत के कण हैं इस ब्रम्हांड में उनसे कई गुना ज्यादा तारे पाए जाते हैं।

25. पृथ्वी पर सबसे शुष्क जगह चिली के अटाकामा रेगिस्तान है। इसके कुछ हिस्सों में अभी तक बारिश दर्ज नहीं की गई है।

26. यहां पृथ्वी पर लगभग 3 ट्रिलियन पेड़ हैं, या हम कह सकते हैं प्रति व्यक्ति लगभग 422 पेड़ हैं। हालांकि, मानव सभ्यता की शुरुआत के बाद से धरती पर पेड़ों की संख्या लगभग आधा हो गई है। हर साल मानव गतिविधि के कारण 15 अरब से अधिक पेड़ काट दिए जाते हैं।

27. पानी की दस बूंदों में पानी के अणुओं की संख्या ज्ञात ब्रह्मांड के सभी सितारों के बराबर है।

28. जानकारों के मुताबिक अगर पृथ्वी पर एक छोर से छोर तक जाने वाली कोई सुरंग होती तो उससे आप-पार होने में सिर्फ 42 मिनट लगते।

29. पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति की वजह से यहाँ कोई भी पर्वत 15000 मीटर से ऊँचा नही हो सकता।

30. धरती के चुम्बकीय ध्रुवों और ओजोन परत हमारे लिए सुरक्षा कवच का काम करतीं हैं इनकी वजह से ही घातक सौर हवाएं हम तक नही पहुँच पातीं।

Read More

एक रहस्यमय बुलेट जिसने सबको हैरान कर दिया - बुलेट बाबा से जुड़ी रोचक जानकारी

Bullet baba and om banna story in hindi
आज हम एक ऐसी सच्ची कहानी के बारे में बताने जा रहें हैं जिसने हर किसी को हैरत में डाल दिया है। कहानी है राजस्थान के एक बुलेट 350 मोटरसाइकिल की जो कि अब लोगों के लिए एक भगवान बन गया है जिसे अब बुलेट बाबा के नाम से जाना जाता है। आज हजारों की संख्या में लोग दूर-दूर से उस बुलेट के दर्शन के लिए आते हैं। हर राहगीर चाहे वह आम इंसान हो, पुलिसकर्मी हो या नेता हो हर कोई वहां से मत्था टेक कर ही गुजरता है।

तो चलिए जानते हैं बुलेट बाबा से जुड़े कुछ और रोचक जानकारियों के बारे में:

Bullet Baba - Om Banna Story in Hindi

जोधपुर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर पाली से 20 कि.मी. दूर सड़क के किनारे यह बुलेट एक चबूतरे में स्थित है जिसे "बुलेट बाबा मंदिर" कहा जाता है इसके अलावा यह स्थान "ओम बन्ना" के नाम से भी प्रसिद्ध है।

पाली इलाके के चोटिला गाँव में ओम बन्ना (ओम सिंह राठौर) नाम का एक व्यक्ति रहता था जिसके पास 1988 के ज़माने में भी एक बुलेट 350 थी जिससे पता चलता है की उस व्यक्ति को मोटरसाइकिल बहुत पसंद थी।

बात 1991 की है ओम सिंह अपनी बुलेट लेकर ससुराल से अपनी घर की ओर लौट रहे थे तभी वे एक पेड़ से टकरा गये और इस दुर्घटना में उनकी तत्काल मृत्यु हो गयी।

लोग जब उस स्थान पर पहुंचे तब बुलेट देखकर तुरंत ही लोगों ने बन्ना को पहचान लिया क्योंकि उस जमाने में बहुत कम लोगों के पास बुलेट हुआ करती थी।

बात जब पुलिस तक पहुंची तो कुछ पुलिसकर्मीयों ने लाश को अपने कब्जे में ले लिया और बुलेट को थाने पहुँचा दिया।

पुलिस वाले तब हैरत में पड़ गये जब अगली सुबह वह बुलेट अपने स्थान से गायब थी। बहुत ढूढनें पर पता चला की बाइक उसी स्थान में है जहाँ पर एक्सीडेंट हुआ था। वापस उस बुलेट को थाने ले जाया गया लेकिन अगली सुबह फिर वैसा ही हुआ।

बुलेट वापस उसी जगह पर आगयी थी जहाँ पर हादसा हुआ था पुलिस वालों ने इसे लोगों की शरारत समझा और इसबार बाइक की पेट्रोल टंकी खाली करके थाने लेजाकर जंजीरों से बाँध दिया गया लेकिन इसके बाद भी बुलेट अपने-आप वापस उसी जगह पर आ खड़ी हो गयी जहाँ ओम बन्ना की मृत्यु हुई थी।

बार-बार होने वाली इस घटना ने लोगों को रोमांचित कर दिया, दूर-दूर तक इस चमत्कार की चर्चा होने लगी। बाद में पुलिस ने बुलेट को बन्ना के मृत्यु स्थल पर ही छोड़ दिया।

बाद में गाँव वालों ने उसी स्थान पर उस बुलेट के साथ ओम बन्ना की तस्वीर लगा कर पूजा-अर्चना करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे यह एक आस्था का केंद्र बन गया।

स्थानीय लोगों के अनुसार ओम बन्ना मंदिर में पूजा करने वालों की सुरक्षा स्वयं ओम बन्ना करते हैं।

om-banna-story-in-hindi


एक और अजीब बात यह है की उस स्थान पर पहले हमेशा दुर्घटनाएं होती रहतीं थीं लेकिन मंदिर बनने के बाद दुर्घटनाएं बहुत कम हो गयीं हैं।

लोगों के द्वारा ऐसा भी कहा जाता है की जो उस मंदिर को नजरअंदाज करता है उसका एक्सीडेंट होना तय है।

आज भी लोगों द्वारा रात में ओम बन्ना को उस स्थान पर देखे जाने का दावा किया जाता है।

इस बुलेट के आसपास फूल, माला, चुनरी, प्रसाद की दुकाने सजी हुईं हैं।

इस इलाके में तैनात पुलिसकर्मी जवान भी यहाँ माथा टेकने के बाद ही अपनी ड्यूटी पर जाते हैं।

बहरहाल मामला कुछ भी हो लेकिन अब उस भयंकर दुर्घटना क्षेत्र में दुर्घटनाएं बंद हो गयीं हैं जो उस रास्ते पर गुजरने वालों के लिए निश्चित ही एक अच्छी बात है भले ही इसके पीछे ओम बन्ना की पवित्र आत्मा हो या कोई दूसरी वजह।
Read More