बाज़ से जुड़े 15 रोचक तथ्य - Eagle Bird in Hindi

eagle-bird-in-hindi

15 Amazing Facts About Eagle Bird in Hindi

1. ईगल (बाज़) को उसकी ताकत, सजगता और उड़ान की ऊँचाई की वजह से हमेशा से ही पक्षियों का राजा माना गया है।

2. दुनिया भर में बाज के 60 से भी ज्यादा प्रजातियाँ पाई जातीं हैं।

3. बाज एक ऐसा शक्तिशाली पक्षी है जो की लगभग 6 किलो तक का वजन उठा कर आसमान में उड़ सकता है जो की अपने आप में एक रिकॉर्ड है।

4. बाज़ मांसाहारी होते हैं और उनके शिकार में मछली, खरगोश, गिलहरी, चूहे, कम रफ़्तार में उड़ने वाले दुसरे पक्षी, यहाँ तक की लोमड़ी व हिरन भी शामिल हैं।

5. बाज बार-बार एक जगह से दुसरे जगह विस्थापित नही होते हैं। वे उम्रभर एक ही जगह पर रहना पसंद करते हैं  लेकिन भोजन की कमी होने की स्थिति में वे अपना स्थान बदल भी सकते हैं।

6. बाज के घोंसले आकार में बहुत बड़े होते हैं जिनका व्यास लगभग 5 से 6 फीट और 2 से 4 फुट लम्बा हो सकता है। यदि पेड़ मजबूत है, तो वे एक ही घोंसले का इस्तेमाल हर बार करते हैं, और हर साल नए सामग्रियों को एकत्र करते हैं, इसलिए कुछ घोंसले बहुत भारी भी हो सकते हैं।

7. मादा बाज़ 1-3 सफ़ेद रंग के अंडे देती है जिसे वह 35 दिनों तक सेती है इस दौरान नर बाज़ की जिम्मेदारी होती है की वह भोजन और अन्य सामग्री इक्कठा करे।

8. ईगल के बच्चे बड़ी तेजी से विकास करते हैं और जन्म के बाद 6 सप्ताह में ही इनका वजन 3 से 4 किलो तक हो जाता है।

9. जैसा की आप जानते हैं की इनकी नज़र बहुत तेज़ होती है, इसके पीछे एक वजह यह भी है की इनकी गर्दन 270 डिग्री तक घूम सकती है इसके अलावा इनकी आँखे एकसाथ दो बिंदुओं पर फोकस कर सकतीं हैं इससे उन्हें आगे और साइड को एक साथ देखने की क्षमता मिल जाती है।

10. नर बाज का वजन मादा के मुकाबले 25% तक कम होता है।

11. बहुत कम लोगों को यह पता है की बाज पानी में तैर भी सकते हैं। एक बार जब वे पानी में उतर जाते हैं तो वे तब तक उड़ नही सकते जबतक की वे पानी से बाहर न आ जाएँ।

12. शिकार के समय बाज 100 मील प्रति घंटे की रफ़्तार से झपट्टा मार सकते हैं जबकि इनकी नियमित उड़ान की रफ़्तार 30 मील प्रति घंटे होती है।

13. 1970 के दशक के दौरान, बाज़ लगभग लुप्त हो गये थे इसके बाद से उन्होंने एक उल्लेखनीय वापसी की है।
14. वैसे तो एक बाज की औसत उम्र 20 साल होती है लेकिन ये 70 साल तक भी जीवित रह सकते हैं।

15. इनकी आँखे बहुत तेज़ होती हैं, अपने शिकार को 5 किलोमीटर से भी देख लेते हैं और ये ultravilot light को भी देखने में सक्षम हैं।