मकड़ी से जुड़े 27 हैरान करने वाले रोचक तथ्य - Amazing Facts about Spiders in Hindi

facts-about-spider-in-hindi

1. मकड़ियों की लगभग 46,000 ज्ञात प्रजातियां हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है इनकी और भी कई सारी प्रजातियाँ हो सकतीं हैं।

2. एक स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र के लिए मकड़ियाँ बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। वे हानिकारक कीड़े खाते हैं, पौधों के परागण में सहयोगी होते हैं, और मृत जानवरों और पौधों को मिट्टी में बदलते हैं। वे कई छोटे स्तनधारियों, पक्षियों और मछलियों के लिए एक बहुमूल्य खाद्य स्रोत हैं।

3. मकड़ी के रेशम ग्रन्थि से निकलने वाला रेशम तरल होता है, लेकिन हवा के संपर्क में आते ही यह कठोर हो जाता है। कुछ मकड़ियों के शरीर में सात प्रकार की रेशम ग्रंथियाँ होती हैं, प्रत्येक एक अलग प्रकार का रेशम बनाती हैं - जैसे चिकनी, चिपचिपी, सूखी, या खिंचाव वाली।

4. क्या आपको पता है? मकड़ियां पक्षियों और चमगादड़ों की तुलना में अधिक कीड़े खाते हैं।

5. मकड़ियों के दांत नहीं होते, इसलिए वे अपने भोजन को चबा नहीं पाते हैं। वे अपने खाने को काटते या निगलते नही हैं बल्कि उनके अंदर एक प्रकार के पाचक रस को भरते हैं और फिर उसे चूस लेती हैं।

6. घरों में पाए जाने वाली अधिकांश मकड़ियां बाहर जिन्दा नही रह सकतीं, क्योंकि उन्होंने घर के अंदर अपना जीवन अनुकूलित कर लिया है।

7. मकड़ी के खून का रंग नीला होता है।

8. सभी मकड़ियां के शरीर से रेशे निकलते हैं, लेकिन सभी मकड़ियां जाले नहीं बनाते।

9. अंटार्कटिका को छोड़कर हर महाद्वीप पर मकड़ियाँ पाई जाती हैं।

10. ज्यादातर मादा मकड़ियाँ पुरुष मकड़ियों से बड़ी होती हैं।

11. मकड़ी की एक प्रजाति जिसे डाइविंग बेल स्पाइडर कहा जाता है, अपनी पूरी ज़िन्दगी पानी के अंदर बिताता है। इनकी शरीर की बनावट की वजह से ये ऐसा कर पाते हैं। यह ऑक्सीजन के लिए सतह से हवा के बुलबुले बना कर उन्हें इक्कठा करते हैं और उन्हें अपनी पीठ पर लाद कर रखते हैं।

diving bell spider in hindi


12. कुछ मकड़ियाँ अपने बनाये हुए जाले खा जाती हैं और फिर उनका पुन: उपयोग करती हैं।

13. इनकी संख्या इतनी ज्यादा है की ऐसा माना जाता है की लगभग हर इंसान के तीन फीट की दूरी पर हमेशा एक न एक मकड़ी जरुर होती है।

14. मकड़ी की उम्र कितनी होती है? अधिकांश मकड़ियां सिर्फ एक से दो साल तक ही जीवित रहते हैं। हालांकि, कुछ प्रजातियाँ 20 से अधिक वर्षों तक भी जीवित रह सकते हैं।

15. मादा मकड़ी एक समय में 3,000 से अधिक अंडे दे सकती हैं।

16. मकड़ी की मांसपेशियाँ पैरों को अंदर की तरफ तो मोड़ सकती हैं, लेकिन फिर से पैरों को सीधा करने के लिए उसे पानी की तरह एक प्रकार की तरल पैरों में पंप करना पड़ता है। यही वजह है की एक मृत मकड़ी के पैर हमेशा मुड़े हुए होते हैं क्योंकि मरने के बाद उसके शरीर से यह तरल खत्म हो चुका होता है।

17. हम मनुष्यों के शरीर में मांसपेशियां बाहर और हड्डियाँ अंदर की तरफ होती हैं, लेकिन मकड़ियों में यह उल्टा होता है उनके शरीर के अंदरूनी हिस्से में मांसपेशियां होती हैं जबकि कंकाल बाहर की तरफ होता है। एक मकड़ी का कंकाल उसकी मांसपेशियों की सुरक्षा करता है।

18. सैकड़ों साल पहले, लोग अपने घावों पर मकड़ी के जाले लगाते थे क्योंकि उनका मानना ​​था कि यह रक्तस्राव को रोकने में मदद करेगा। अब वैज्ञानिकों ने रिसर्च के बाद यह पता लगाया है कि रेशम में विटामिन-के होता है, जो रक्तस्राव को कम करने में मदद करता है।

19. घरों में रहने वाली मकड़ियों के पैर में छोटे-छोटे बाल होते हैं जिनकी वजह से वे दीवारों में चल सकती हैं। लेकिन घर के बाहर रहने वाली कुछ मकड़ियाँ ऐसी भी होती हैं जो अपने पैर की बनावट की वजह से दीवारों पर नही चढ़ पाती हैं।

20. मकड़ियों को सुनने और सूंघने में उनके पैरों के छोटे-छोटे बाल उनकी मदद करते हैं।

21. अधिकांश मकड़ियों की आठ आंखें होती हैं और वे एक-दुसरे के बहुत नज़दीक होती हैं।

22. क्या मकड़ियाँ जहरीली होतीं हैं? 
अधिकतर मकड़ियों में जहर नही होता लेकिन इनकी कुछ प्रजातियाँ होती हैं जो की विषैले होते हैं और इनके काटने से शरीर में जहर फ़ैल सकता है। हालांकि ऐसी मकड़ियाँ बहुत ही कम पायी जाती हैं।

23. फ़नल वेब स्पाइडर नाम की मकड़ी एक आक्रामक मकड़ी है जो लोगों पर हमला करती है और काटती है। इसका जहर सिर्फ 15 मिनट में जान ले सकता है। लेकिन इससे डरने की जरुरत नही है, क्योंकि अब इसके जहर से बचने के लिए एक एंटीवेनम बना लिया गया है।

24. क्या मकड़ियाँ उड़ सकती हैं?
मकड़ियाँ उड़ नहीं सकते, लेकिन वे कभी-कभी अपने रेशम के माध्यम से झूलते हुए दिखाई देते हैं।

25. सॉल्टिसिड्स (कूदने वाली मकड़ियां) की कुछ प्रजातियाँ ऐसी किरणों को भी देख सकतीं हैं जिन्हें हम मनुष्य अपनी आँखों से नही देख सकते हैं। कुछ को UVA और UVB किरणों को देखने में भी सक्षम होती हैं।

26. मकड़ी के जाले में मक्खियाँ और अन्य कीड़े फंस जाते हैं क्योंकि यह बहुत ही चिपचिपा होता है। ऐसे में आपके दिमाग में एक सवाल यह जरूर आता होगा की आखिर मकड़ियाँ खुद के जाल में क्यों नही फंसते? तो इसका जवाब है की मकड़ी के जाले का हर हिस्सा चिपचिपा नही होता, ये जिससे हिस्से पर बैठतीं हैं उसे अलग प्रकार के रेशम से बनाती हैं जिसमे चिपचिपापन नही होता है।

spider in hindi


27. गोलियत मकड़ी (थेरोफोसा ब्लॉन्डी) विश्व की सबसे बड़ी मकड़ी है। यह 11 इंच तक चौड़ा हो सकता है, और इसके नुकीले पैर एक इंच तक लंबे होते हैं। यह मेंढक, छिपकली, चूहे और यहां तक ​​कि छोटे सांप और पक्षियों का भी शिकार कर सकता है।


आपको मकड़ी के बारे में (About Spiders in Hindi) का यह पोस्ट कैसा लगा हमें जरुर बताएं।

रोचक जानकारी पायें सीधे अपने ईमेल पर!