क्रिसमस के बारे में 25 रोचक जानकारियाँ - Facts About Christmas in Hindi

About Christmas in Hindi

क्रिसमस के बारे में रोचक तथ्य - Amazing Facts About Christmas in Hindi

1. क्रिसमस 25 दिसंबर को यीशु मसीह के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता है। लेकिन बाइबिल में 25 दिसंबर का कोई उल्लेख नहीं है।

2. अभी तक निश्चित तौर पर किसी को नही पता की यीशु मसीह का जन्म कब हुआ था। अधिकांश इतिहासकारों का मानना ​​है कि वे वसंत ऋतु में पैदा हुए थे।

3. क्रिसमस ट्री की शुरुआत कब और कहाँ से हुई इस बारे में कोई निश्चित जानकारी नही है। कहा जाता है की 16वीं शताब्दी के आसपास जर्मनी में इसका उपयोग होता था और उस समय इसे फलों से सजाया जाता था। ये पेड़ सदाबहार होते हैं और यूल के पेड़ के रूप में भी जाने जाते हैं।

4. क्या आपने कभी सोचा है कि Christmas को Xmas के रूप में क्यों जाना जाता है? X प्राचीन ग्रीक भाषा से आता है जहां X का तात्पर्य मसीह से है। तो, Xmas का मतलब है क्रिसमस।

5. क्रिसमस की बात हो और सांता क्लॉस को याद न करें ऐसा हो ही नही सकता। इस अवसर पर बच्चों को इसी का तो इन्तजार होता है की कब सांता आये और उन्हें गिफ्ट मिले। दरअसल यह करैक्टर सेंट निकोलस पर आधारित है जो की बच्चों चुपके से उपहार देकर उन्हें खुश करता था।

6. माना जाता है की इस दिन बच्चों को उपहार देना प्रभु यीशु को उपहार देने का प्रतीक है।

7. सांता के लाल रंग के ड्रेस के बारे में तो आपको पता ही है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि सांता शुरू में ऐसे कपड़े पहनते थे जो हरे, बैंगनी या नीले रंग के होते थे? कई सालों तक इसी रंग का ड्रेस चलता रहा। बाद में कोका कोला ने अपने ब्रांड से मेल खाने वाले रंगों से सांता के कपडे तैयार करने का फैसला किया और तब से हमेशा के लिए लाल कपड़ों का ही उपयोग हो रहा है।

8. मान्यता के अनुसार सांता के पास 8 रेनडिअर होते हैं जिससे वह उपहारों से भरे स्लेज को खिंच कर बच्चों तक पहुचता है। इन आठों reindeer के अलग-अलग नाम भी हैं: Cupid, Dancer, Vixen, Dunder, Comet, Dasher, Prancer, और Blixem.

9. "साइलेंट नाइट" इतिहास में सबसे प्रसिद्ध क्रिसमस गीत है, 1978 के बाद से 733 से अधिक विभिन्न संस्करणों को कॉपीराइट किया जा चुका है।

10. "जिंगल बेल्स" मूल रूप से एक धन्यवाद गीत माना जाता था।

11. यूरोप में हर साल लगभग 6 करोड़ क्रिसमस ट्री उगाए जाते हैं।

12. क्रिसमस ट्री के कई हिस्सों को वास्तव में खाया जा सकता है, ये विटामिन सी का अच्छा स्रोत होती हैं।

13. क्रिसमस के पेड़ को 6-7 फीट की ऊंचाई तक बढ़ने में लगभग 15 साल लगते हैं।

14. आंकड़ों के अनुसार प्रत्येक कटाई के स्थान पर औसतन तीन क्रिसमस पेड़ लगाए जाते हैं।

15. पहला आर्टिफीसियल क्रिसमस ट्री बिल्कुल भी एक पेड़ नहीं था। यह हंस के पंखों से बना था जो हरे रंग में रंगे हुए थे।

16. 19 वीं शताब्दी बड़े निरंतर वनों की कटाई के कारण जर्मनी में पहले कृत्रिम क्रिसमस ट्री बनाया गया था। ये पेड़ पंखो से बने होते थे और 20 वीं शताब्दी की शुरुआत में तेजी से लोकप्रिय हो गए।

भारत में क्रिसमस कैसे मनाया जाता है? 

17. भारत में क्रिसमस मानाने के लिए गोवा को सबसे बेहतरीन जगह माना जाता है। क्रिसमस के समय घुमने के लिए पर्यटक गोवा आना पसंद करते हैं।

18. गोवा में ईसाईयों की जनसँख्या अच्छी-खासी है और यहाँ क्रिसमस का त्यौहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है।

19. गोवा का पुर्तगाल से ऐतेहासिक संबंध रहा है इसलिए यहाँ पश्चिमी रिवाज से यह त्यौहार मनाया जाता है।

20. क्रिसमस की पूर्व संध्या पर, गोवा में लोग अपने घरों के बीच सितारों के आकार में विशालकाय पेपर लालटेन लटकाते हैं।

21. अगर मुंबई की बात करें तो यहाँ के ज्यादातर क्रिस्चन गोवा से ही आये हुए हैं और यहाँ भी त्यौहार मानाने के कुछ रिवाज गोवा से मिलते जुलते हैं।

22. मुंबई में क्रिसमस मानाने के लिए बांद्रा और चर्च गेट को बेहतरीन जगह माना जाता है यहाँ लोग बड़े उत्साह से इस फेस्टिवल को मानते हैं।

23. दक्षिण पश्चिम भारत में, केरल राज्य में, राज्य की पूरी आबादी में से 22% ईसाई हैं और क्रिसमस एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कैथोलिक उपवास रहते हैं और 1 से 24 दिसंबर मिडनाइट सर्विस तक नहीं खाते हैं। हर घर को क्रिसमस स्टार से सजाया जाता है। क्रिसमस के मौसम की शुरुआत के दौरान, लगभग सभी स्टेशनरी दुकानो और मार्केट में नए और विविध क्रिसमस सितारों से भरे होते हैं।

24. भारत में, फादर क्रिसमस या सांता क्लॉस बच्चों को घोड़े और गाड़ी से उपहार देने आते हैं।

25. सांता को हिंदी में 'क्रिसमस बाबा' कहा जाता है, तमिल और तेलुगु में 'क्रिसमस थाथा' और मराठी में 'नटाल बुआ' के नाम से जाना जाता है। केरल राज्य में, उन्हें 'क्रिसमस पापा' के रूप में जाना जाता है।

क्रिसमस के बारे में यह जानकारी (Christmas in Hindi) आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं।

रोचक जानकारी पायें सीधे अपने ईमेल पर!