गुलाब के बारे में 25 रोचक जानकारियाँ | Information About Rose in Hindi

About Rose in Hindi

About Rose in Hindi: गुलाब दुनिया के सबसे खूबसूरत फूलों में से एक है। जिसे ज्यादातर लोग प्यार का प्रतीक मानते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं धरती पर गुलाब के फूल 33 करोड़ साल पहले से मौजूद है। नही न? आज हम ऐसे ही गुलाब के बारे में कुछ रोचक तथ्य लेकर आये हैं जिन्हें पढ़कर आप हैरान हो सकते हैं। आप इन जानकारियों को पढ़कर गुलाब पर निबंध  (Essay on rose in Hindi) भी लिख सकते हैं।

गुलाब के बारे में जानकारी - Information About Rose in Hindi

1. दुनिया का सबसे पुराना जीवित गुलाब 1,000 साल पुराना माना जाता है। यह जर्मनी में एक गिरिजाघर (कैथेड्रल ऑफ हिल्डेसहेम) की दीवार पर बढ़ता है और कहा जाता है की यह यहाँ पर 815 ईस्वी से मौजूद है।

2. इस हजार साल पुराने गुलाब के बारे में एक बात जानकर आप हैरान हो जायेंगे, सन 1945 में जर्मनी के इस गिरिजाघर को बम बरसाकर नष्ट कर दिया गया था और इसकी चपेट में यह पौधा भी आ गया था। लेकिन कुछ दिनों बाद यह पौधा फिर से उग आया क्योंकि इसकी कुछ जड़ें जिन्दा थीं।

3. पुरी दुनिया में गुलाब की 100 से अधिक प्रजातियां पाई जाती हैं।

4. प्राकृतिक रूप से काले रंग को छोड़कर गुलाब लगभग हर रंग के पाए जाते हैं।



5. पहले नीला गुलाब नही पाया जाता था लेकिन 2009 में कई सारे प्रयोगों के बाद नीले रंग के गुलाब का उत्पादन कर लिया गया है।

6. चंडीगढ़ में स्थित जाकिर हुसैन रोज गार्डन एशिया का सबसे बड़ा गुलाब उद्यान है। लगभग 30 एकड़ भूमि में बने इस उद्यान में गुलाब की 1600 प्रजातियों के साथ लगभग 50,000 गुलाब के पौधे हैं।

7. लगभग 5000 साल पहले एशिया में गुलाब की खेती की शुरुआत हुई थी।

8. गुलाब सबसे पुराने पौधों में से हैं। गुलाब के अब तक के सबसे पुराने जीवाश्म कोलोराडो में पाए गये हैं जो की  33 करोड़ 5 लाख वर्ष पुराने हैं।

9. दुनिया का सबसे ऊँचा गुलाब का पौधा महाराष्ट्र के गुरुनाथ ठाकुर नाम के व्यक्ति ने उगाया था जिसकी ऊंचाई 21 फीट और 4 इंच थी।

10. जाम्बिया में 80% से अधिक भूमि पर गुलाब की खेती की जाती है। जाम्बिया के सभी फूलों के निर्यात का 95% गुलाब ही होते है।

गुलाब फूल की जानकारी हिंदी में - Rose Information in Hindi

11. दुनिया का सबसे छोटा गुलाब: मध्य प्रदेश, इंदौर के सुधीर खेतावत नाम के व्यक्ति का दावा है कि उसने सबसे छोटे गुलाब का उत्पादन किया गया है। इस फूल का व्यास केवल 1 सेमी (1/3 से कम) था।

12. क्या आप जानते हैं? सेब, चेरी, खुबानी, आड़ू, प्लम, नाशपाती और बादाम गुलाब से ही जुडी प्रजातियाँ हैं।

13. सैकड़ों वर्षों से गुलाब को प्यार और सहानुभूति के प्रतीक के रूप में व्यापक रूप से पहचाना जाता है।

14. कहा जाता है की 11 अक्टूबर 1492 में, कोलंबस के चालक दल ने समुद्र से गुलाब की एक शाखा निकाली जो एक संकेत था कि पानी के नीचे जमीन मौजूद है। अगले ही दिन, कोलंबस ने अमेरिका की खोज कर ली थी।
gulaab ka fhul photo


15. सभी गुलाब उगाने वाले देश ऐसे क्षेत्र में हैं जहाँ पानी काफी पर्याप्त मात्र में पाई जाती है क्योंकि गुलाब के पौधे को बहुत ज्यादा पानी की जरुरत होती है।

16. एक गुलाब के फूल को खिलने के लिए लगभग 13 लीटर पानी की जरुरत पड़ती है।

17. रंगों के अनुसार गुलाब के अलग-अलग मतलब होते हैं जैसे:
  • लाल: प्यार 
  • गुलाबी: प्रशंसा, अनुग्रह 
  • पीला: ख़ुशी, आनंद
  • सफेद: शुद्धता, शांति
  • नारंगी: ऊर्जा, उत्साह
18. गुलाब की गंध पर कम गुरुत्वाकर्षण के प्रभावों का परीक्षण करने के लिए नासा द्वारा 2002 में एक लघु गुलाब, 'ओवरनाइट संसेशन' को अंतरिक्ष में ले जाया गया। यह अंतरिक्ष में रहते हुए कम तेल से बने फूलों को बाहर निकालता है, फिर भी इतने अधिक "फूलों की गुलाब की सुगंध" को देखते हैं।

19. ऐतिहासिक रूप से गुलाब का रोम और मिस्र के लोगों के लिए बहुत महत्व था। रोमन उन्हें कमरे की सजावट के रूप में उपयोग करते थे, इसके अलावा अपनी गर्दन के चारों ओर माला के रूप में भी पहनते थे।

20. इत्र बनाने में गुलाब के तेल का उपयोग होता है। आपको जानकर हैरानी होगी की केवल 1 ग्राम तेल के लिए 2000 फूलों की जरुरत पड़ती है।

21. गुलाब के पौधे में फल भी लगते हैं। गुलाब को खाया भी जा सकता है।

22. गुलाब के फल में अन्य फलों की तुलना में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।

23. गानों में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला फूल गुलाब है।

24. हर साल वैलेंटाइन वीक में 7 फरवरी को Rose day मनाया जाता है।

25. गुलाब की पँखुडियो से गुलकंद बनाया जाता है जो की खाने में मीठा और स्वादिष्ट होता है और यह सेहत के लिए फायदेमंद भी होता है।

आपको गुलाब के बारे में जानकारी कैसी लगी? हमें जरुर बताएं। आप इसे गुलाब पर निबंध (essay on rose in hindi) के लिए भी कर सकते हैं।

loading...

रोचक जानकारी पायें सीधे अपने ईमेल पर!